Wednesday , 15 August 2018

CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत की 8 घोषणाएं, इन क्षेत्रों का होगा विकास

Home / don't Miss / CM त्रिवेन्द्र सिंह रावत की 8 घोषणाएं, इन क्षेत्रों का होगा विकास
26814650_1758379984457243_8286412036682193213_n

पौड़ी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को यमकेश्वर ब्लाक के तहसील मुख्यालय में आयोजित गेंद मेला(गेंदी कौथिग)का विधिवत रूप से समापन किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने 3099.26 लाख रूपये की लागत से निर्मित लक्ष्मणझूला-रथुवाढाब-धुमाकोट मोटर मार्ग समेत विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण तथा 364.30 लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाली सैंज-चुबयानी-गुमाल गांव-बुधौली के 07 किमी मोटर मार्ग का शिलान्यास भी किया। मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने थलनदी गेंद मेले को राजकीय मेला घोषित करने समेत आठ घोषणाएं की।

 

मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने राज्य के सुप्रसिद्ध थलनदी गेंद मेले को राजकीय मेला घोषित करने, बीन नदी में पुल निर्माण करने, शीला-चंडई मोटर मार्ग का निर्माण करने, सोलर फेंसिंग 25 किमी, यमकेश्वर के लिए एक अतिरिक्त 108 एम्बुलेंस सेवा, नीलकंठ में अपर स्टोरी पार्किंग, बिथ्यानी में महंत अवैद्यनाथ की मूर्ति स्थापना तथा बुकंदी-विन्ध्यवासिनी मोटर मार्ग के निर्माण की घोषणाएं

मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने जन कल्याण की विभिन्न सड़क योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। उन्होंने यमकेश्वर तहसील के आवासीय भवनों के निर्माण हेतु 32.86 लाख, ग्राम सकुनियल से भूड़गांव तक स्वैच्छिक श्रमदान से निर्मित 04 कि.मी. मोटर मार्ग, लक्ष्मणझूला-रथुवाढाब-धुमाकोट मोटर मार्ग के कुल 70 किमी मार्ग के पुनस्र्थापना एवं पुनरूद्धार हेतु 2969.10 लाख रूपये तथा एस.सी.एस.पी. योजना के तहत 56 किमी दुगड्डा-लक्ष्मणझूला-बैराज से गाजसेरा तक 97.30 लाख रूपये से निर्मित चार मोटर मार्ग का लोकार्पण तथा सैंज-चुबयानी-गुमाल गांव-बधौली तक 364.30 लाख रूपये से निर्मित होने वाली 07 किमी मोटर मार्ग का शिलान्यास किया।

 

 

सरकार किसी भी सूरत में भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों को पनपने नहीं देगी

ब्लाॅक के थलनदी में आजमीर-उदयपुर विकास समिति की पहल पर आयोजित गेंद मेले के समापन समारोह में मुख्यमंत्री  त्रिवेंद्र ने पहाड़ों में इस प्रकार के मेलों व कौथिगों को राज्य के पारम्परिक कौथिक बताया। उन्होंने प्राचीन समय में इस प्रकार के कौथिकों के महत्व पर रोशनी डाली। उन्होंने कहा कि राज्य के इन मेलों व कौथिगों को देश-विदेश में विशेष महत्व दिया दिया जाता है। पहले के समय में कौथिगों व मेलों के द्वारा व्यापारिक गतिविधियां भी खूब चलाई जाती थी। मुख्यमंत्री ने गेंद मेले की स्थापना व उसके उद्देश्यों पर भी रोशनी डाली। उन्होंने मेला समिति की ओर से लोक परंपराओं को बचाने के लिए इस प्रकार के आयोजनों को सराहनीय कदम बताया। उन्होंने प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के संकल्प को पुनः दोहराया। उन्होंने कहा कि सरकार किसी भी सूरत में भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों को पनपने नहीं देगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिला वर्ग के बीच रेडीमेड फैशन के बढ़ते प्रचलन को देखते हुए राज्य के विभिन्न स्थानों पर 15 ग्रोथ सेंटर स्थापित करने का फैसला किया है। जिससे लोगों को आधुनिक फैशन के साथ-साथ रोजगार भी प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि अब खाद्यान्न की दुकानों में सामुदायिक कम्प्यूटर सेंटर (सीएससी) स्थापित किये जा रहे हैं। जिससे लोगों को जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र समेत अन्य प्रमाण-पत्र भी राशन की दुकानों से प्राप्त हो सकेेंगे।

मेले में सहकारिता, आईआरआईएसएस वेलफेयर फाउंडेशन देहरादून, कृषि, उद्यान, बाल विकास, स्वास्थ्य, पशुपालन, समाज कल्याण, ग्राम्य विकास, डेरी विकास समेत विभिन्न विभागों की ओर से स्टाॅल लगाकर राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न विकास योजनाओं की जानकारियां दी गई।

इस अवसर पर विधायक मती ऋतु खण्डूड़ी,  सुरेश राठौर, भाजपा जिलाध्यक्ष  शैलेंद्र सिंह गढ़वाली, मेला समिति के अध्यक्ष  अनिल सिंह नेगी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के पिताजी  आनंद सिंह बिष्ट सहित जिला स्तरीय अधिकारी, क्षेत्रीय जनता व जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *