Wednesday , 15 August 2018

CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया रायपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 68 करोड़ 23 लाख रूपये की 22 योजनाओं का लोकार्पण

Home / don't Miss / CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किया रायपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 68 करोड़ 23 लाख रूपये की 22 योजनाओं का लोकार्पण
29598202_1800973063256540_8591377870525412358_n

देहरादून – मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को ब्लाॅक भवन रायपुर में रायपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत 68 करोड़ 23 लाख रूपये की 22 योजनाओं का लोकार्पण तथा 33 करोड़ 66 लाख की कुल 10 योजनाओं का शिलान्यास किया। जिन विभिन्न विभागों की कुल 32 योजनाओं का लोकापर्ण व शिलान्यास किया गया उनमें उत्तराखण्ड पेयजल निगम, सिंचाई विभाग, एमडीडीए, लोक निर्माण विभाग, लघु सिंचाई विभाग, उत्तराखण्ड जल संस्थान व ग्रामीण अभियंत्रण विभाग  सम्मिलित है।  इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने नगर निकायों में मिलाए गए नए क्षेत्रों से आने वाले दस वर्षो तक कोई टैक्स नही लेने की भी घोषणा भी की। उन्होंने ब्लाॅक के पुराने भवन के जीर्णाेद्धार व सभागार हेतु फर्नीचर की व्यवस्था की घोषणा भी की।

नगर निकायों में मिलाए गए नए क्षेत्रों से आने वाले दस वर्षो तक कोई टैक्स नही -मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि नगर निगमों को 1500 करोड़ रूपये दिये गये है। 2000 कर्मियों की भर्ती भी नगर निकायों में की जाएगी जिसमें पर्यावरण मित्र तथा अन्य स्टाफ होगा। नगर निकायों में जो नए क्षेत्र मिलाए गए है आने वाले 10 सालों तक उनसे कोई टैक्स ( होम टैक्स आदि) नही लिया जायेगा।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने रिस्पना तट पर एक ही दिन में ढाई लाख पौधे लगाने हेतु जनता को आमंत्रित किया

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने जनता से अपील की कि रिस्पना से ऋषिपर्णा मिशन के अन्र्तगत शीघ््रा ही व्यापक जनभागीदारी से रिस्पना नदी के तटों पर एक ही दिन में लगभग ढाई लाख पौधे लगाये जायेगे। कोसी व रिस्पना नदियों को पुनर्जीवित करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि रिस्पना के उद्गम स्थल लंढौर से राजपुर तक लगभग ढाई लाख पौधों में 30 प्रतिशत फलदार वृक्ष होंगे। अधिकतर ऐसे पौधे लगाए जाएंगे जो भू जलस्तर को सुधारने में सहायक हो। उन्होंने कहा कि लोगो को अधिक से अधिक संख्या में इस दिन वृक्षारोपण में सहयोग देना चाहिए।  सक्रिय जनभागीदारी से ही इस अभियान को सफल बनाया जा सकता है।

 

हमने सर्वसमावेशी बजट बनाया-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि इस बार गैरसैंण में विधानसभा सत्र ऐतिहासिक एवं महत्वपूर्ण रहा। भविष्य में राज्य के आर्थिक व सामाजिक विकास की दिशा तय करने में वित सत्र सबसे महत्वपूर्ण होता हैं। इस बार के बजट में राज्य के युवाओं, सैनिकों, किसानों, महिलाओं की व्यापक भागीदारी रही। यह बजट पूरी तरह से सर्वसमावेशी बजट है। बजट राज्य के चहुमुखी विकास को सुनिश्चित करेगा।


जनता व सरकार के बीच विश्वास जरूरी-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि जनप्रतिनिधियों द्वारा मात्र कोरी  घोषणाएं नहीं की जानी चाहिए बल्कि योजनाओं का वास्तविक धरातल पर प्रभावी रूप लागू होना जरूरी है। जनप्रतिनिधियों को जनता के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता का पालन करना होगा। जनता व सरकार के बीच विश्वास बना रहना चाहिए। सरकार द्वारा आने वाले चार वर्षो के भीतर प्रत्येक घोषणा को पूरा किया जायेगा।

भ्रष्टाचार की दीमक का निरन्तर उपचार जरूरी-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि भ्रष्टाचार की दीमक को नष्ट करना ही होगा। इसके लिए लगातार प्रयास करने होंगे। भ्रष्टाचार के खिलाफ जो लड़ाई सरकार द्वारा शुरू की गई है वह जारी रहेगी। भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टोलरेन्स की नीति अपनाई गई है। एसआईटी सही दिशा में काम कर रही हैं। शिक्षा विभाग में भी फर्जी डिग्री के कई मामले पकड़े गए है। खनन राजस्व में 28 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। परिवहन विभाग 150 करोड़ रूपये की लाभ की स्थिती में है। ऊर्जा निगमों के लाभ में भी वृद्धि हुई है। राज्य सृद्ढ़ कानून व्यवस्था की दृष्टि से देश में दूसरे स्थान पर है। समय पर उचित उपचार मिलने से दुर्घटना के बाद मौतों में कमी आई हैं। जनता ने सरकार में जो विश्वास जताया है, सरकार उसी दिशा में कार्य कर रही है।

समस्याओं के स्थायी समाधान में विश्वास-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उन्हें  समस्याओं के सतही हल पर विश्वास नहीं है। हमें समस्याओं का स्थायी समाधान करना होगा। आने वाले दिनों में पानी की समस्या बढ़ सकती है। सूर्यधार योजना से जहां 43 गांवों की पानी की समस्या का समाधान होगा वहीं 7 करोड़ रूपये की बिजली की बचत भी होगी। सभी प्रकार के अनुमोदन प्राप्त होने के बाद सौंग बांध का शिलान्यास कर दिया जायेगा। सौंग बांध से एक ओर 100 करोड़ रूपये की बिजली की बचत होगी दूसरी ओर 2051 तक क्षेत्र की पानी की समस्या का समाधान होगा। सरकार का लक्ष्य राजपुर क्षेत्र तक ग्रेविटी बेस्ड जल उपलब्ध करवाना है। भाऊवाला योजना से भी जल आपूर्ति की समस्या का समाधान होगा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हम समस्याओं के जड़ पर प्रहार कर रहे है ताकि आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुरक्षित व उज्जवल हो।

कार्यक्रम को  उच्च शिक्षा मंत्री डा0 धन सिंह रावत,  विधायक उमेश शर्मा काऊ, भाजपा प्रदेश महामंत्री सुनील उनियाल गामा आदि ने भी संबोधित किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *