Wednesday , 15 August 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने किया केन्द्रीकृत किचन प्रणाली के भवन का भूमि पूजन

Home / don't Miss / मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने किया केन्द्रीकृत किचन प्रणाली के भवन का भूमि पूजन
27867530_1753715897982257_2495791406358593470_n
देहरादून– मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सुद्धोवाला, देहरादून में द हंस फाउण्डेशन एवं अक्षय पात्र फाउण्डेशन  के समन्वय से मध्याह्न भोजन योजना हेतु केन्द्रीकृत किचन प्रणाली के भवन हेतु भूमि पूजन किया।
इस मौके पर मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि अक्षय पात्र संस्था की यह बहुत अच्छी योजना है। बच्चों एवं उनके परिवारों पर इस योजना के बहुआयामी प्रभाव पड़ेगें। यदि बच्चों को पौष्टिक, स्वच्छ एवं आहार मिलेगा तो उनके स्वास्थ्य पर इसका अच्छा प्रभाव पड़ेगा।
मुख्यमंत्री ने उत्तराखण्ड में इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सहयोग देने पर माता मंगला एवं हंस फाउण्डेशन का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि आज इस केन्द्रीकृत किचन की सुद्धोवाला से भूमि पूजन से शुरूआत की जा रही है। फिलहाल चार यूनिट से शुरू होने वाली इस केद्रीकृत किचन के लिए माता मंगला ने इसके लिए 44 करोड़ रूपये दान दिया है। उन्होंने कहा कि इस योजना को आगे भी आवश्यकतानुसार बढ़ाया जायेगा। इस योजना को आगे बढ़ाने में राज्य सरकार पूरा सहयोग करेगी। उन्होंने कहा कि अक्षय पात्र संस्था निःस्वार्थ भाव से इस योजना पर कार्य कर रहे हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने छात्र-छात्राओं को मध्याह्न भोजन भी वितरित किया।
अक्षय पात्र योजना से प्रदेश के सात स्थानों सुद्धोवाला,डोईवाला, हरिद्वार, रूड़की, काशीपुर, गदरपुर, सितारगंज के कुल 3729 विद्यालयों के 03 लाख 58 हजार छात्र-छात्राओं को मध्याहन भोजन की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। सुद्धोवाला के 461 स्कूलों से अक्षय पात्र योजना प्रारम्भ की जा रही है, इससे लगभग 26 हजार विद्यार्थियों को मध्याहन भोजन की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी।
मध्याह्न भोजन योजना के अन्तर्गत केन्द्रीयकृत किचन प्रणाली को लागू किया जा रहा है जिसमें अक्षय पात्र फाउण्डेशन द्वारा केन्द्रीयकृत किचन के माध्यम से मध्याह्न भोजन योजना संचालित की जायेगी। इस हेतु राज्य सरकार द्वारा अक्षय पात्र फाउण्डेशन को दो से ढ़ाई एकड़ भूमि उपलब्ध कराई जा रही है। द हंस फाउण्डेशन द्वारा केन्द्रीयकृत किचन निर्माण कार्य में वित्तीय सहयोग प्रदान किया जा रहा है।
वहीं हंस फाउण्डेशन की संस्थापक माता मंगला ने कहा कि अक्षय पात्र की इस मध्याहन भोजन योजना में बच्चों को स्वच्छ एवं पौष्टिक आहार 40 मिनट के अन्दर स्कूलों में पहुंचाया जायेगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड की भूमि पर इस योजना के शुरू होने के बाद स्कूली छात्रों को उच्च गुणवत्ता का आहार प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि अभी उत्तराखण्ड के 07 स्थानों पर इस केन्द्रीकृत किचन की योजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *