Tuesday , 25 September 2018

पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड : उत्तराखंड के पूर्व सीएम ने सोशल मीडिया में उठाया सवाल, क्या असहमति के स्वरों को दबा दिया जायेगा

Home / Headlines / पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड : उत्तराखंड के पूर्व सीएम ने सोशल मीडिया में उठाया सवाल, क्या असहमति के स्वरों को दबा दिया जायेगा
harish-rawat_650x400_51489153011

देहरादून-  पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सवाल खड़े किए हैं। फेसबुक वाल पर एक पोस्ट के जरिए उन्होंने सवाल उठाया है कि क्या असहमति के स्वरों का दबा दिया जाएगा। उनकी मानें तो गौरी की हत्या के साथ दो हत्याएं हुई हैं। एक निर्भीक महिला पत्रकार की और दूसरी असहमति के प्रबल ध्वजवाहक की।

 

nationalherald%2F2017-09%2F06d47afd-c59b-4770-8f6a-731216a4dffc%2Fmurder-of-gauri-lankesh-a-wake-up-call-for-journalism

 

लोकतंत्र की बड़ी त्रासदी है पत्रकार हत्याकांड 

उन्होंने गौरी की हत्या को भारतीय लोकतंत्र की बड़ी त्रासदी करार देते हुए कहा कि क्या असहमति के स्वर दबेंगे? क्या असहमति के स्वरों को मिल रही धमकियां ऐसे स्वरों को धीमा कर देंगे? उनके मुताबिक, यह चुनौती संसदीय लोकतंत्र, देश के संविधान और संविधान के प्रहरी उच्चतम न्यायालय के सम्मुख है।

 

‘जब कांग्रेस सरकार थी तो उन्हें भी मीडिया में कुछ लोगों के सवाल चुभते थे। बस अंतर इतना है कि वह ऐसे सवालों के आगे झुकते थे

पोस्ट में हरीश रावत आगे लिखते हैं कि असहमति के स्वर सत्ता को हमेशा कर्कश लगे हैं। जब उनकी सरकार थी तो उन्हें भी मीडिया में कुछ लोगों के सवाल चुभते थे। बस अंतर इतना है कि वह ऐसे सवालों के आगे झुकते थे, आज लोग ऐसे सवाल करने वालों को झुकाना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *